आज लक्ष्मी पूजन सबसे बेहतरीन मुहूर्त करें पूजा और बनें मालामाल ।।

आज लक्ष्मी पूजन सबसे बेहतरीन मुहूर्त करें पूजा और बनें मालामाल ।। Lakshmi Pooja Ka Sarvottam Muhurt.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, आज कार्तिक कृष्ण अमावस्या को दीपावली का पर्व मनाया जाता है । इस दीपावली में मैं आपके लिये बेहतरीन तीन मुहूर्त बताता हूँ, जिसमें लक्ष्मी पूजन करेंगे तो आपके लिये विशेष फलदायी होगा ।।

आज सायंकाल में 18:11 से 19:49 और शुभ एवं अमृत चौघडियाँ है । इस समय में 19:43 से 21:42 तक वृष लग्न भी है । जिसमें पूजा करना सर्वोत्तम एवं सर्वाधिक शुभ फलदायी माना जाता है ।।

इसके साथ ही निशीथ काल और महानिशीथ काल में भी पूजा का शुभ समय है । आज प्रात: 7.27 बजे तक  हस्त नक्षत्र है और इसके पश्चात चित्रा नक्षत्र शुरू हो जायेगा ।।

इस दीपावली पर प्रदोष काल से लेकर अर्धरात्रि तक महालक्ष्मी पूजन मंत्र, जप, अनुष्ठान आदि करने का बहुत अधिक महत्व होता है ।।

आज श्री गणेश जी सहित लक्ष्मी-इन्द्र-कुबेर आदि का पूजन भी करना चाहिए । आज अमावस्या तिथि रात 12.42 बजे तक रहेगी । दीपावली पूजन में अमावस्या तिथि, प्रदोष निशीथ और महानिशीथ काल का विशेष महत्व होता है ।।

लोग प्रदोष काल में पूजन नहीं कर सकते, वह निशीथ एवं महानिशीथ काल में पूजा कर सकते हैं । प्रदोष काल शाम 18:11 से 19:49 बजे तक रहेगा । शाम 19:43 से 21:42 बजे तक वृष लग्न में पूजा करना विशेष शुभप्रद रहेगा ।।

शाम 16.44 बजे से 21.17 बजे तक शुभ, अमृत और चल चौघड़िया रहेगी । इस समय में दीपदान, महालक्ष्मी, गणेश कुबेर पूजन, बहीखाता पूजन करना अत्यन्त शुभ रहेगा ।।

निशीथ काल रात्रि 8.00 बजे से 10.30 बजे तक रहेगा । निशीथ काल में वृष लग्न शुभ रहेगा । शाम 7.44 बजे से रात्रि 9.17 बजे तक चर चौघड़िया भी शुभ रहेगी । इस समय में श्रीसूक्त कनक धारा स्तोत्र का पाठ और लक्ष्मी पूजन करना शुभ रहेगा ।।

महानिशीथ काल रात्रि 23.55 बजे से 24.44 बजे तक महानिशीथ काल रहेगा । इस समयावधि में रात 11.43 बजे तक मिथुन लग्न मध्यम, इसके पश्चात रात्रि 2.14 बजे से 04:23 बजे तक सिंह लग्न सबसे सर्वोत्तम रहेगा ।।

रात्रि 12.24 बजे से 1.57 बजे तक लाभ की चौघड़िया रहेगी, इस अवधि में श्री महालक्ष्मी एवं काली की उपासना यंत्र, मंत्र, तंत्र आदि क्रियाएं, अनुष्ठान, साधनाएं आदि की जाती हैं ।।

एक अत्यन्त मुख्य एवं सबसे प्रभावी बात रात्रि में चौमुखा घी का दीपक जलाकर लक्ष्मी सूक्त, श्री सूक्त एवं कनक धारा स्तोत्र का पाठ करना लक्ष्मी की वर्षा करवा देता है ।।

 

Related Posts

Contact Now