आपकी राश‌ि के अनुसार आपका मारकेश जो आपके जीवन तक पर संकट लाता है, कौन है – आइये जानें ।।

0
431
Chandal Yoga And prabhav
Chandal Yoga And prabhav

आपकी राश‌ि के अनुसार आपका मारकेश जो आपके जीवन तक पर संकट लाता है, कौन है – आइये जानें ।। Aapak Marakesh Arthat Mrityu Ka Grah Kaun

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, किसी भी व्यक्ति की जन्मकुण्डली आधार पर उसके जीवन में मारकेश की दशा में होने वाली घटनाओं की सटीक विचार किया जा सकता है । यह दशा जीवन में जब भी आती है अमिट छाप छोड़ ही जाती हैं । अत: आइये आज हम इस बात पर गम्भीरता से विचार करते हैं, कि आखिर क्या होता है मारकेश ? सामान्य भाषा में कहें तो मारकेश अर्थात-मरणतुल्य कष्ट या फिर मृत्यु तक देने वाला वह ग्रह जिसे आपकी जन्मकुंडली में मारक होने का अधिकार प्राप्त होता है ।।

परन्तु अलग-अलग लग्नों के मारकेश अर्थात मारक भावाधिपति भी अलग-अलग होते हैं । मारकेश की दशा जातक को अनेकों प्रकार की बीमारी, मानसिक परेशानी, वाहन दुर्घटना, दिल का दौरा, नई बीमारी का जन्म लेना, व्यापार में हानि, मित्रों और संबंध‌ियों से धोखा तथा अपयश जैसी परेशानियां देती हैं । अब कौन सा ग्रह आपकी जन्मकुण्डली में मारक है, इस बात को जानना पड़ेगा ।।

Aapak Marakesh Arthat Mrityu Ka Grah Kaun
www.astrothinks.com

मित्रों, आइये सभी लग्नों के लिए मारकेश ग्रह का विचार करते हैं । मेष लग्न की कुण्डली के लिए शुक्र, वृषभ लग्न के लिये मंगल, मिथुन लग्न वाले जातकों के लिए गुरु, कर्क और सिंह लग्न वाले जातकों के लिए शनि मारकेश होता है । कन्या लग्न के लिए गुरु, तुला के लिए मंगल और वृश्चिक लग्न के लिए शुक्र मारकेश होता है । जबकि धनु लग्न के लिए बुध, मकर के लिए चन्द्रमा, कुम्भ के लिए सूर्य, और मीन लग्न के लिए बुध मारकेश होता है ।।

सूर्य आत्मा और चन्द्रमा अमृत तथा मन माना गया हैं इसलिए इन्हें मारकेश होने का दोष नहीं लगता । ये दोनों अपनी दशा-अंतर्दशा में केवल अशुभता में कमी लाते हैं । मारकेश का विचार करते समय कुण्डली के सातवें भाव के अतिरिक्त, दूसरे, आठवें, और बारहवें भाव के स्वामियों और उनकी शुभता-अशुभता का भी विचार करना आवश्यक होता है ।।

मित्रों, सातवें भाव से आठवां दूसरा भाव होता है जो धन और कुटुम्ब का भाव माना जाता हैं । इसलिए इस विषय में सूक्ष्मता तथा गहराई से विचार करने की आवश्यकता होती है और उसके बाद ही फलादेश क‌िया जाना चाहिये । अब बात आती है, कि अगर किसी की कुण्डली में मारकेश की दशा चल रही हो तो ऐसे में क्‍या करें ? क्योंकि खतरों से खेलने का शौक कोई अच्छी बात तो है नहीं ।।

इसके अशुभ प्रभाव से बचने के लिए सरल और आसान तरीका यह है, कि कुण्डली के सप्तम भाव में यदि पुरुष राशि हो तो शिव की तथा स्त्री राशि हों तो शक्ति की आराधना करनी चाहिये । जो भी ग्रह उस घर में उपस्थित हो उसके जप संख्या का चार गुना उसका मूल मंत्रजप करना-करवाना अथवा महामृत्युंजय मन्त्र का जप करना-करवाना या फिर ज्यादा-से-ज्यादा रुद्राभिषेक करवाना ही इस दशा की शांति के सरल उपाय हैं अथवा आवश्यक होता है ।।

===============================================

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Video’s.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.

E-Mail :: astroclassess@gmail.com

।।। नारायण नारायण ।।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here