दुर्घटना, मृत्यु एवं प्रेत बाधाओं का संबंध।।

0
205
Accident Death and Pret Badha
Accident Death and Pret Badha

दुर्घटना, मृत्यु एवं भूत-प्रेत बाधाओं का पारस्परिक संबंध एवं उपाय ।। Accident Death and Pret Badha.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz.

मित्रों, जन्म कुंडली में लग्न भाव, आयु भाव अथवा मारक भाव पर यदि पाप ग्रहों का प्रभाव हो तो जातक का स्वास्थ्य प्राय: निर्बल रहता है । अथवा यूँ कहें कि उसे दीर्घायु की प्राप्ति नहीं होती है ।।

साथ ही चन्द्रमा, लग्नेश तथा अष्टमेश का अस्त होना, पीड़ित होना अथवा निर्बल होना भी इस बात का स्पष्ट संकेत है, कि जातक अस्वस्थ रहेगा या उसकी कुंडली में अल्पायु योग हैं ।।

ठीक इसी प्रकार चंद्रमा, लग्न, लग्नेश और अष्टमेश पर पाप ग्रहों का प्रभाव, इन ग्रहों की पाप ग्रहों के साथ युति अथवा कुंडली में कहीं-कहीं पर चंद्र की राहु-केतु के साथ युति यह दर्शाती है कि जातक पर भूत-प्रेत का प्रकोप हो सकता है ।।

मुख्यतः चंद्र-केतु की युति यदि लग्न में हो तथा पंचमेश और नवमेश भी राहु के साथ सप्तम भाव में हों तो यह स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है, कि जातक ऊपरी हवा इत्यादि से ग्रस्त होगा । अगर ऐसा है तो जातक के शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, स्वास्थ्य तथा आयु पर निश्चित रूप से प्रभाव पड़ेगा ।।

उपर्युक्त ग्रह योगों से प्रभावित कुंडली वाले जातक प्रायः मानसिक अवसाद से ग्रस्त रहते हैं । उन्हें नींद भी ठीक से नहीं आती है । एक अनजाना भय प्रति क्षण सताता रहता है ।।

इतना ही नहीं, कभी-कभी तो वे आत्महत्या करने की स्थिति तक पहुंच जाते हैं । जो ग्रह भाव तथा भावेश बालारिष्ट का कारण होते हैं, लगभग उन्हीं ग्रहों पर पाप प्रभाव भावेशों का पीड़ित, अस्त अथवा निर्बल होना इस बात का भी स्पष्ट संकेत करता है कि जातक की कुंडली में भूत-प्रेत बाधा के योग भी है ।।

अतः स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है, कि बालारिष्ट तथा भूत-प्रेत बाधा का पारस्परिक संबंध अवश्य होता है । यदि अनुभव हो कि भूत प्रेत का असर है, तो घर में नियमित रूप से सुन्दरकांड या हनुमान चालीसा का पाठ करें तथा सूर्य देव को जल चढ़ाएं ।।

यदि किसी मनुष्य पर भूत-प्रेत का असर अनुभव हो, तो उसकी चारपाई के नीचे नीम की सूखी पत्ती जलाएं । मंगल या शनिवार को एक समूचा नींबू लेकर भूत-प्रेत ग्रसित व्यक्ति के सिर से पैर तक ७ बार उतारकर घर से बाहर आकर उसके चार टुकड़े कर चारों दिशाओं में फेंक दें ।।

इस क्रिया से निश्चित ही भुत-प्रेतों का साया उसपर से हट जायेगा । परन्तु यह ध्यान रहे कि जिस चाकू से नींबू काटा गया है उसे भी उधर ही कहीं फेंक देना चाहिए ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here