अनिष्ट शुक्र गुप्त रोग एवं प्रेम सुख में बाधा.

0
562
Anisht Shukra fal And Upay
Anisht Shukra fal And Upay

अनिष्ट शुक्र गुप्त रोगदायक एवं प्रेम सुख में बाधक होता है, ऐसे इसे ठीक करें ।। Anisht Shukra fal And Upay.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, ज्योतिष विज्ञान के अनुसार शुक्र ग्रह की अनुकूलता से व्यक्ति भौतिक सुख पाता है । इसके अलावा शुक्र यौन अंगों और वीर्य का कारक भी माना जाता है । विवाह तय करने के पहले कुण्डली मिलान के समय ही इन योगायोगों पर अवश्य ही दॄष्टिपात कर लेना चाहिए ।।

यदि शुक्र के साथ लग्नेश, चतुर्थेश, नवमेश, दशमेश अथवा पंचमेश की युति हो तो दांपत्य सुख यानि यौन सुख में वॄद्धि हो जाती है । अगर आप किसी से प्रेम करते हैं और उससे प्रेम विवाह करना चाहते हैं तो आपको यह उपाय करना है ।।

करना ये है, कि भगवान विष्णु और लक्ष्मी की मूर्ति या तस्वीर के सम्मुख, शुक्ल पक्ष में गुरूवार से शुरू करें । “ॐ श्री लक्ष्मीनारायणाभ्याम् नम:” इस मंत्र का रोज तीन माला जप, स्फटिक माला या कमलगट्टे की माला से करें ।।

तीन महीने तक हर गुरूवार मंदिर में प्रसाद चढ़ाएं और विवाह हो जाने की प्रार्थना करें । मनोवंछित फल आपको अवश्य प्राप्त होगा । परन्तु कुण्डली में शुक्र के अनिष्ट में होने पर यह उपाय करें ।।

किसी जातक के कुण्डली के गोचर में शुक्र अशुभ हो तथा कुण्डली में पहले, छठे एवं नौवें भाव में स्थित हो तो चर्म रोग, स्वप्न दोष, धोखा, हाथ की अंगूठी आदि निष्क्रिय होने जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं ।।

इसके लिए यह उपाय करें । 43 दिनों तक किसी गंदे नाले में नीले फूल डालें । स्त्रियों का सम्मान करें और इत्र लगाएं । दही का दान करें और साफ सुथरे रहें तथा अपने बिस्तर की चादर को सिलवट रहित रखें ।।

मित्रों, यदि आपकी जन्म कुण्डली में शुक्र अशुभ हो तो जातक को लकवा, गुप्तांगो में रोग और कमजोरी देता है । ऐसा शुक्र शरीर में खून की कमी, पथरी तथा मूत्राशय सम्बन्धी रोग इत्यादि देता है ।।

इसको ठीक करने के लिये आप दान में चावल, सफ़ेद वस्त्र, दूध, दही, सफ़ेद चन्दन, सुगन्धित द्रव्य और इत्र तथा ओपल इत्यादि का दान कर सकते हैं । दान आप शुक्रवार के दिन करें और शुक्र का मन्त्र “ऊं द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:” का प्रतिदिन एक माला जप करें ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Watch YouTube Video’s.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.  

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं।।

वापी ऑफिस:- शॉप नं.- 101/B, गोविन्दा कोम्प्लेक्स, सिलवासा-वापी मेन रोड़, चार रास्ता, वापी।।

प्रतिदिन वापी में मिलने का समय: 10:30 AM 03:30 PM

सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय: 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here