सरकारी नौकरी एवं पदोन्नति के उपाय।।

0
629
government job And promotions
government job And promotions

सरकारी नौकरी एवं पदोन्नति प्राप्ति के सरल उपाय ।। government job And promotions.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz.

मित्रों, सरकारी नौकरी तथा नौकरी किसी भी प्रकार की हो, उसमे पदोन्नति के लिए लगभग सभी आतुर रहते हैं । और होना भी चाहिए क्योंकि किसी भी वस्तु या इच्छा की पूर्ति हेतु जी-जान से प्रयत्न करना ही पड़ता है । लोगों की अपनी-अपनी सोंच होती है ।।

परन्तु कभी-कभी हमारी सोंच गलत भी हो सकती है । कुछ लोग होते हैं, जो वेदों को मानते हैं, वैदिक सिद्धान्त को मानते हैं, लेकिन ज्योतिष को नहीं मानते । ज्योतिष एक शास्त्र है, लोग अक्सर कहते सुने जाते हैं, की फलाँ बात शास्त्रों में लिखा है । और वही व्यक्ति ज्योतिष एवं ज्योतिषियों की आलोचना करता है ।।

क्यों ? क्योंकि वो खुद कन्फ्यूज है, उसे पता ही नहीं की शास्त्र तो ज्योतिष ही है । छः शास्त्रों में एक प्रमुख शास्त्र ज्योतिष शास्त्र है । इतना ही नहीं ज्योतिष को वेदों का नेत्र कहा गया है । अब अगर आप ज्योतिष के बिना वैदिक सिद्धांतों को मानते हैं, तो इसका अर्थ ये हुआ की आप अन्धे वेद को मानते हैं ।।

मित्रों, जबतक लोग अच्छे-खासे, ठीक-ठाक होते हैं, तो ज्योतिष उन्हें एक पाखण्ड और एक ज्योतिषी उन्हें बेवकूफ या फिर कोई ठग लगता है । लेकिन जब वही व्यक्ति परेशान होता है, तब उसे कोई अन्य मार्ग ही नहीं दीखता । मैं ये कदापि नहीं चाहता की किसी को कोई कष्ट-परेशानी या कोई तकलीफ हो ।।

कारण कि हमें तो गुरुकुल में प्रथम दिन के क्लास में ही ये पढ़ाया गया था, कि आप कोई साधारण व्यक्ति नहीं हैं, अपितु सम्पूर्ण मानव समाज की जिम्मेदारी आपके उपर है, की आप यज्ञों का प्रचार करके-करवाके सृष्टि का सञ्चालन सुचारू रूप से करवायें ये आपकी जिम्मेवारी है ।।

मित्रों, अब इस बात में सच्चाई कितनी है, वो तो परमात्मा को ही पता है, पर हमें तो हमारे गुरुओं के बात पर सम्पूर्ण भरोसा एवं उनकी आज्ञा का पालन करने के लिए सम्पूर्ण समर्पण भाव है । दूसरी ऐसी बात इसलिए भी कभी-कभी कहना पड़ता है, क्योंकि किसी भी बात को स्पष्ट करने के लिए भूमिका तो रखनी ही पड़ती है ।।

खैर मेरे कहने का सिर्फ इतना ही अभिप्राय है, की अगर ठीक-ठाक रहते हुए वैदिक संस्कृति का एक प्रमुख अंग मानकर ज्योतिष को अपनाया जाय, तो हम अपने दुर्भाग्य पर काफी हद तक विजय प्राप्त करके उसे सौभाग्य में बदल सकते हैं ।।

चलिए भूमिका तो जितनी कही जाय कम ही होगी, लेकिन आज जिस विषय पर चर्चा करने का हमने ठाना है, आप सभी को उस विषय की ओर लेकर चलते हैं । तो आज अपना पहला सवाल था, कि सरकारी नौकरी कैसे किन योगों के वजह से मिलती है ।।

तो जैसा की मैंने अपने कल के लेख में इस विषय को स्पष्ट किया था, कि प्रथम भाव, दूसरा भाव, छठा भाव, दशम भाव एवं एकादश भाव का संबंध या इसके स्वामी से भी अगर आपकी कुण्डली के दशम भाव अथवा दशमेश से होगा तो जातक के जीवन में अच्छी नौकरी के योग बनते है ।।

सज्जनों, लग्न के स्वामी की दशा और अंतर्दशा में, नवमेश की दशा या अंतर्दशा में, षष्ठेश की दशा या अंतर्दशा में, प्रथम, द्वितीय, षष्ठम, नवम और दशम भावों में स्थित ग्रहों की दशा या अंतर्दशा में, दशमेश की दशा या अंतर्दशा में, द्वितीयेश तथा एकादशेश की दशा या अंतर्दशा में अच्छी नौकरी मिलने की उम्मीद होती है ।।

एक बात आप स्वयं गौर करें कि आप जब नौकरी ढूंढ रहे हैं, तब आपके उपर इनमें से किसकी दशान्तार्दशा चल रही है ? जिस ग्रह की दशा और अंतर्दशा चल रही है उसका संबंध किसी भी तरह से दशम भाव या दशमेश से होना चाहिए, तभी मनपसंद नौकरी के योग बनते हैं ।।

द्वितीयेश और एकादशेश की दशा या अंतर्दशा में भी अच्छी नौकरी मिलती है । छठा भाव नौकरी का एवं सेवा का है एवं छठे भाव का कारक ग्रह शनि है । दशम भाव या दशमेश का संबंध छठे भाव से हो तो जातक नौकरी ही करता है । राहु और केतु की दशा, या अंतर्दशा में जीवन की कोई भी शुभ या अशुभ घटना होती है ।।

ऐसे में अच्छे से अच्छी नौकरी के चान्सेस भी होते हैं । गुरु गोचर में दशम या दशमेश से किसी तरह सम्बंधित हो तथा गोचर वश गुरु नौकरी मिलने के उम्र में किसी केंद्र या त्रिकोण में हो तो उच्च सरकारी नौकरी के योग बनते हैं ।।

मित्रों, शनि और गुरु एक-दूसरे से केंद्र या त्रिकोण में हों तो जातक को अच्छी नौकरी मिलती है । नौकरी मिलने के उम्र में शनि या गुरु का या दोनों का दशम भाव तथा दशमेश दोनों से अथवा किसी एक से भी संबंध हो तथा दशम भाव पूर्ण बलि हो तो सरकारी नौकरी वो भी उच्च पद की पक्की है । नौकरी के कारक ग्रहों का संबंध सूर्य व चन्द्र से हो तो जातक को सरकारी नौकरी मिलता ही है । सूर्य, चंद्र, एवं बृहस्पति सरकारी नौकरी मै उच्च पद दिलाने में पूर्ण समर्थ ग्रह हैं ।।

दशवें भाव को सूर्य प्रधान भाव कहा जाता है । अगर दशम भाव में सूर्य की प्रधानता हो तो जातक सरकारी नौकरी में जाता ही है । केंद्र में गुरु स्थित होने पर सरकारी नौकरी में उच्च पदाधिकारी का पद प्राप्त होता है । किसी जातक की कुण्डली में शनि बलवान हो तो व्यक्ति नौकरी करता है ।।

मंगल कुण्डली में बली हो तो पुलिस, खुफिया विभाग अथवा सेना में उच्च पद प्राप्त होने की संभावना अधिक एवं प्रबल होती है । गुरु कुण्डली में बली हो तो जातक को अच्छा वकील, जज, धार्मिक प्रवक्ता एवं ख्याति प्राप्त ज्योतिष आदि बनाता है ।।

बुध कुण्डली में बलवान हो तो व्यापारी, लेखक, एकाउन्टेंट, लेखन एवं प्रकाशन, में अच्छी ख्याति एवं धन, पद, प्रतिष्ठा आदि सभी कुछ देता है । किसी जातक की कुण्डली में शुक्र बलवान हो तो फिल्मी कलाकार, गायक तथा सौंदर्य से सम्बन्धित व्युटिशियन वगैरह के कार्यों में अच्छी सफलता प्रदान करता है । राहु से आयात व्यापार एवं केतु से निर्यात व्यापार के कार्यों में ऊँचे से ऊँची सफलता प्राप्त होती है ।।

सरकारी नौकरी प्राप्ति एवं पदोन्नति के लिए आप सभी को कुछ आसन सा टिप्स बताता हूँ – तांबे के लोटे से सुबह-सुबह भगवान सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए । हनुमान जी के दर्शन करें, पक्षियों को बाजरा आदि अनाज के दाने खिलाने चाहिए । सुबह-सुबह यह उपाय करें, जल्दी ही नौकरी से जुड़ी समस्या दूर हो जाएंगी ।।

गाय को आटा और गुड़ खिलावें, उच्च पद वाली सरकारी नौकरी की सहज प्राप्ति के लिए बड़े-बुजुर्गों की सेवा तथा उनका आशीर्वाद लेते रहना चाहिए । हनुमान जी तस्वीर रखें और उनकी पूजा करें, हर मंगलवार को जाकर बजरंग बाण एवं हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए ।।

सुबह स्नान करते समय पानी में थोड़ी पिसी हल्दी मिलाकर स्नान करना चाहिए । इंटरव्यू देने के लिए निकलने से पहले एक चम्मच दही और चीनी मुंह में डालकर ही निकलें । गणेश जी का कोई ऐसा चित्र या मूर्ति घर में लगाएं, जिसमें उनकी सूंड़ दाईं ओर मुड़ी हो । शनिवार को शनि देव की पूजा करें एवं “ॐ शं शनैश्चराय नम:” का यथासम्भव जप करें ।।

सूर्य अगर कमजोर भी हो तो भी अच्छी नौकरी हेतु सूर्य की आराधना करनी चाहिए । इसके लिए आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ करे । सूर्य का मन्त्र “ॐ घृणी सूर्याय नमः” का कम से कम 108 बार जप करें । गायत्री मन्त्र के जप से भी भगवान सूर्य की प्रशन्नता प्राप्त होती है ।।

घर की पूर्व दिशा में तुलसी का पौधा जरूर लगायें एवं पिता की सेवा अधिक से अधिक करें । शराब और मांसाहार का सेवन न करें, शिवजी का पूजन पीपल में पूजन करें । ऐसा करने से नौकरी प्राप्ति में आनेवाली बाधाएँ दूर हो जायेंगीं और सहज ही नौकरी मिल जाएँगी ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं –  Watch My YouTube Video’s.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here