होलिका दहन के दिन करें ये कुछ प्रभावी टोटके ।।

0
296
धुलंडी वाले दिन इसे अबीर या गुलाल में मिलाकर इच्छित औरत के सिर पर डाले तो वो वश में हो जाती हैं। इस वशीकरण मंत्र के उपयोग से आप अपनी पत्नी या इच्छित ओरत को वश में कर सकते हैं । पुरष वशीकरण के लिए विधिवत होली पूजा के समय वैजयंती माला को भी रख दे ।।

 

होलिका दहन के दिन करें ये कुछ प्रभावी टोटके ।। Holika Dahan Ke Din Karen Ye Kuchh Prabhavi Totake.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, जैसा की आप सभी जानते हैं, होलिका दहन, होली से एक दिन पूर्व मनाया जाता है । इसके पीछे भक्त प्रहलाद, उसकी बुआ होलिका और भगवान नरसिंह से जुडी कहानी हैं । यह पर्व यह सन्देश देता है कि भगवान के भक्तों का कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता ।।

होलिका दहन को एक मंगलकारी दिन माना जाता है । इस दिन को तन्त्रशास्त्र के अनुसार टोटकों के लिए ख़ास माना जाता हैं । होलिका दहन के दिन परिवार कि सुख-शांति, समृद्धि और रोग मुक्ति आदि के लिए कई टोटके किये जाते हैं ।।

मित्रों, तन्त्रशास्त्र के अनुसार होली की रात में कुछ ऐसे उपाय जो शीघ्र ही फलप्रद होते हैं । गुरुवार 1 मार्च की रात को होलिका दहन होगा । अगले दिन सुबह यानि 2 मार्च को होली की राख के साथ कुछ उपाय करने हैं, जो मैं आपको बताता हूँ ।।

यदि किसी के पास आपका धन अटका है और वो वापस देने में बेईमानी कर रहा है । साथ ही आप मुकद्दमे के झंझट में नहीं पडऩा चाहते हैं, तो होलिका दहन के स्थल पर उस व्यक्ति का नाम उसी जमीन पर अनार की कलम से एक त्रिकोण बनाकर उसके अंदर लिखें ।।

अब उस पर हरा गुलाल छिड़क दें और होलिका माता से धन वापसी की प्रार्थना करें । अगले दिन वहां से थोड़ी सी राख उठा कर लायें और उसे बहते हुये जल में उस व्यक्ति का नाम लेते हुए प्रवाहित कर दें ।।

किसी गंभीर रोग से यदि परेशान हैं, और बड़े-से-बड़े अस्पताल के उपचार से भी ठीक नहीं हो रहा है, तो देसी घी में भीगे दो लौंग, एक बताशा, थोड़ी सी मिश्री, एक पान का पत्ता होलिका दहन में अर्पित कर दें । दाएं हाथ में 4 गोमती चक्र लेकर रोग मुक्ति की प्रार्थना करें । गोमती चक्र रोगी की पलंग के चारों पायों में चांदी की तार से बांध दें ।।

किसी बच्चे को किसी की नजर लग गई हो, तो देसी घी में भीगे पांच लौंग, एक बताशा, एक पान का पत्ता होलिका दहन में अर्पित करें । दूसरे दिन वहां की राख लाकर ताबीज में भर कर उस बच्चे को पहनादें, बच्चा शीघ्र ही ठीक हो जायेगा ।।

यदि आपके घर को बुरी नजर लग गई हो तो उसे उतारने के लिए देसी घी में भीगे दो लौंग, एक बताशा, मिश्री, एक पान का पत्ता होलिका दहन में अर्पित करें । दूसरे दिन वहां की राख लाकर लाल कपड़े में बांध कर घर में रखें, सब ठीक हो जायेगा ।।

अगर आपके दिन बुरे चल रहे हों तो घर में अच्छे दिन लाने के लिए थोड़ी सी होली की राख घर लाएं उसमें राई और खड़ा नमक मिलाकर कहीं एकान्त कोने में छुपाकर रख दें । होलिका दहन की राख से किये गए इस टोटके के प्रभाव से आपके परिवार में सुख-शांति और लक्ष्मी की प्राप्ति होने लगेगी ।।

मित्रों, वैसे तो इस दिन घर के सभी सदस्यों को होलिका में एक बतासा, देशी घी में भिगोई हुई 2 लौंग, एक नागरवेळ का पान चढ़ाना चाहिए । होलिका दहन की रात वशीकरण के लिए भी प्रभावी उपाय आप कर सकते हैं ।।

वैसे यह उचित नहीं है, इसका अधिकांशतः दुरुपयोग ही होता है । इसलिये अगर किसी को अत्यावश्यक हो तो वो हमें मेल करे या बेबसाईट के कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट करे तो हम उसे बता देंगे । स्त्री एवं पुरुष वशीकरण के उपाय के लिए परन्तु इसके लिए कॉल कदापि ना करे ।।

मित्रों, इस दिन पुरे दिन काले कपडे में काले तिल बाँधकर अपने पास रखने चाहिए और फिर शाम को दहन के समय उन्हें होलिका में डाल देने चाहिए । भगवान विष्णु के सामने सात गोमती चक्र रखकर विनती करनी चाहिए की वो आपके सभी मुसीबतों को ख़त्म कर दें और यह कह कर इन गोमती चक्रों को दहन में स्वाहा कर देना चाहिये ।।

माता महालक्ष्मी अथवा कुबेर के मंत्र को जपने अथवा उनकी साधना से धन की वृद्धि सामान्य रूप से होती है । परन्तु इन्हीं मंत्रों का जप कुछ मात्रा में भी यदि होली की रात्रि में करें तो अत्यधिक लाभ होता है । परन्तु जितने ज्यादा समय करेंगे उतना ज्यादा आपको इसका फल मिलेगा ।।

रोग समाप्ति के लिए होलिका की परिक्रमा करते समय रूद्र मंत्र का जप करना चाहिये इससे सहज ही रोग मुक्ति हो जाती हैं । आप रूद्र मन्त्रों में “ॐ नम: शिवाय ” अथवा और अधिक प्रभावी  “महामृत्युंजय मन्त्र ” का जप कर सकते हैं ।।

दहन के बाद अगले दिन होलिका की राख लाकर उसमे थोड़ी राई और थोडा नमक डालकर घर में रख लें । यह नकारात्मक चीजों से घर का बचाव करती है । अब अन्त में सर्वोत्तम और सर्वाधिक प्रभावी उपाय – होली की रात्रि भगवान नरसिंह की प्रतिमा अथवा फोटो के सामने सरसों के तेल का एक  “चौमुखी दीपक”  जलायें और अपने  “कष्ट निवृत्ति”  हेतु प्रार्थना करें ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here