माणिक्य रत्न की विशेषताएँ एवं फायदे।।

0
352
Manikya Ratna Ke Fayade
Manikya Ratna Ke Fayade

माणिक्य रत्न की विशेषताएँ एवं फायदे ।। Manikya Ratna Ke Fayade.

हैल्लो फ्रेंड्सzzzzz…

हमारे जीवन में नौ रत्नों का बहुत महत्व है । इनको धारण करने से हम अपने भाग्य के रास्ते की बाधा को काफी हद तक दूर करने में सक्षम हो सकते है ।।

माणिक्य का लाल रंग की आभा लिये होता है । यह अन्य रंगों जैसे गुलाबी, काला और नीले रंग में भी पाया जाता है तथा यह अत्यंत कड़क होता है । पृथ्वी पर पाये जाने वाले खनिजों में सिर्फ हीरा ही इससे कठोर होता है ।।

जिस माणिक्य पर सूर्य की पहली किरण पड़ते ही लाल रंग बिखेरने लगे वह सर्वोत्तम माना जाता है । उत्तम माणिक्य की पहचान है कि अगर इसे दूध में 100 बार डुबोते हैं तो दूध मे भी माणिक्य की आभा दिखने लगती है ।।

अंधेरे कमरे में रखने पर यह सूर्य के समान प्रकाशमान होता है । इसे पत्थर पर रगड़े तो इस पर घर्षण के निशान आ जाते हैं लेकिन वजन में कमी नहीं आती है ।।

इस रत्न को व्यक्ति विशेष के लिए सूर्य की शुभाशुभ स्थिति जानकर ही माणिक धारण करने की सलाह दी जाती है । जिनकी कुण्डली में सूर्य लाभप्रद और प्रभावशाली हो, उन्हें माणिक धारण करना चाहिए ।।

लेकिन जिन्हें सूर्य से कष्ट हो उन्हें संपूर्ण कुंडली का अध्ययन करके एवं जांच – परख करके ही माणिक धारण करना चाहिए । सूर्य की लाभप्रद महादशा में माणिक धारण करना चाहिए तथा हानिप्रद महादशा में सलाह लेकर धारण करना चाहिए ।।

विभिन्न लग्न-राशि में सूर्य की शुभाशुभ स्थिति के सापेक्ष माणिक धारण करने की सलाह दी जाती है । मेष लग्न – राशि के लिए सूर्य पंचमेश तथा लग्नेश मंगल का मित्र है, इसलिये माणिक धारण करना लाभप्रद होता है ।।

वृष लग्न – राशि के लिये सूर्य चतुर्थेश है । लेकिन लग्नेश शुक्र का शत्रु भी है, इसलिये जांच – परख कर माणिक धारण करें । मिथुन के लिए तृतीयेश सूर्य, माणिक ठीक नहीं कहा जा सकता ।।

कर्क के लिए लग्नेश का मित्र, लेकिन सूर्य द्वितीयेश, जांच – परख कर धारण करें । सिंह के लिए उत्तम । कन्या, तुला, मकर, कुंभ आदि के लिए आमतौर पर हानिप्रद ही माना जाता है ।।

माणिक्य:- सूर्य रत्न माणिक्य सूर्य के शुभ फल प्राप्ति हेतु धारण किया जाता है । माणिक्य का अधिक मूल्यवान रंग वह होता है, जो कबूतर के रक्त के समान हो ।।

बर्मा का माणिक्य अपना विशिष्ट स्थान रखता है । विभिन्न स्थानों से प्राप्त माणिक्य के रंगों में भी अंतर होता है । बर्मा से प्राप्त माणिक्य का रंग और जगह से प्राप्त माणिक्य से कम गहरा होता है ।।

श्री लंका से प्राप्त माणिक्य के रंगों में कुछ पीलापन होता है । सबसे उत्तम जाति के माणिक्य उत्तरी बर्मा के मोगोल नामक स्थान से प्राप्त होते है ।।

माणिक्य की और भी बहुत से गुण और विशेषताएं हैं, जो मैं आपलोगों को आगे बताने का प्रयास करूँगा ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here