शुभ या अशुभ ग्रह कब फल देते हैं?

0
644
Jhagade Dur Karne Ke Totake

शुभ या अशुभ योगों वाले ग्रह कब और कितनी मात्रा में फल देते हैं ?।। Shubh aur ashubh graho ke fal

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, आज हम बात करेंगे, कि आपकी कुण्डली में जो शुभ या अशुभ ग्रह होते हैं ? उनका शुभ या अशुभ फल जातक को मिलता कब है ?।।

फिर चाहे वो पंच महापुरुष योग में जो फल बतलाए गए फल हों या अशुभ कालसर्पादि योग के फल हों । वह सब शुभाशुभ फल उन-उन ग्रहों की दशा में ही जातक को प्राप्त होते हैं ।।

मित्रों, शीर्षोदय राशिगत ग्रह दशा के आरंभ काल में, उभयोदयगत दशा के मध्य में, पृष्ठोदय गत राशि तथा नीच राशि के ग्रह दशा के अंत में उपरोक्त बतलाए हुए अपने-अपने फल को देते हैं ।।

3, 5, 6, 7, 8, 11 ये छः राशियाँ शीर्षोदय होती हैं । शीर्षोदयी अर्थात् पूर्वीय क्षितिज पर उदय के समय जिन राशियों का सिर वाला भाग पहले दृष्टिगोचर होता है ।।

मित्रों, मकर, वृषभ, धनु, कर्क और मेष – 1, 2, 4, 9, 10 ये पाँच राशियाँ पृष्ठोदयी होती हैं । पृष्ठोदयी अर्थात् पूर्वीय क्षितिज पर उदय के समय इनका पृष्ठभाग पहले उदित होता है ।।

मीन राशि उभयोदय कही गयी है, क्योंकि मीन राशि का स्वरुप दो मछलियों वाला है । ये दोनों मछलियाँ एक-दूसरे से विपरीत दिशा में अपना मुख रखे हुए होती हैं ।।

मित्रों, इसीलिए, उदय के समय एक साथ सिर एवं पूंछ दिखने से इसे उभयोदय अर्थात् सिर एवं पूंछ से एक साथ उदित होने वाली कहा जाता है ।।

शीर्षोदय राशियाँ मूलतः शुभ फलदायी कही गयी हैं । परन्तु पृष्ठोदयी राशियों के बारे में ज्योतिष के जानकारों में भ्रांतियां है । कोई इन राशियों का फल अशुभ कोई देर से कहता है ।।

मित्रों, मीन राशि सदैव मिश्रित या मध्यम फलद होती है । इसके अतिरिक्त, पृष्ठोदयी राशियाँ उत्तरार्द्ध में और शीर्षोदयी राशियाँ पूर्वार्ध में विशेष फलप्रद हैं ।।

उभयोदय राशि मध्य में फलप्रद होती है । अर्थात्, पृष्ठोदय राशिस्थ ग्रह सम्पूर्ण दशा के अंत में, शीर्षोदय स्थित ग्रह आदि में उभयोदय मध्य में फलप्रद होते हैं । प्रश्न विचार में, शीर्षोदय कार्यसाधक और पृष्ठोदय कार्यनाशक होती है ।।

मूल दशापति के साथ में रहने वाले ग्रह की अंतर्दशा आधा, दशापति से त्रिकोण में स्थित ग्रह तृतीयांश तथा दशापति से सप्तमस्थ ग्रह सप्तमांश और दशा स्वामी से चतुर्थ और अष्टम भाव में स्थित ग्रह की अंतर्दशा चतुर्थांश फल देती है फिर चाहे वो शुभ हो अथवा अशुभ ।।

===============================================

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Video’s.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

वापी ऑफिस:- शॉप नं.- 101/B, गोविन्दा कोम्प्लेक्स, सिलवासा-वापी मेन रोड़, चार रास्ता, वापी।।
 
प्रतिदिन वापी में मिलने का समय: 10:30 AM 03:30 PM
 
सिलवासा ऑफिस:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।
 
प्रतिदिन सिलवासा में मिलने का समय: 05: PM 08:30 PM

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.

E-Mail :: balajijyotish11@gmail.com

।।। नारायण नारायण ।।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here